सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

वैश्या

वेश्याओं का जन्म!
माँ के गर्भ से नहीं होता है
वो तो खाली तश्तरी से उठकर
स्वार्थ की घने अन्धकार में
हवस की दीवार पर 
बिना जड़ की बेल सी पनपती है

उसका मन 
हमेशा देहलीज़ पर बैठ
हर दिन गिनता रहता है
उसके ही तन की आवाजाही को
जब वो बाजार के पैने
दांतों पर बैठकर
हवस के पुजारियों की आँखो में
ढूंढती है रोटी 
मन उसे वहीं पर छोड़ चला आता 
और दहलीज़ पर बैठकर 
करता खुद से 
अपने अस्तित्व को लेकर अनगिनत 
 सवाल
आखिर क्यों 
अंतड़ियों की भूख भिनभिनाती है
हमेशा मक्खियों की तरह
क्यों नहीं सो पाया बेचैन मन 
एक अरसे से 
घना अंधेरा क्यों जम जाता है
घर की दहलीज़ पर 

 मन को लगता है
आंगन के उस पार
एक घना सा बीहड़ है शायद
और उस घने बिहड़ में से
एक खूंखार जानवर 
उसके घर के अंदर दाखिल हो गया है

टिप्पणियाँ

  1. बहुत ही अच्छा लिखा है आपने

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत ही बढ़िया ,उम्दा
    आपके ब्लॉग पर जब भी जाना चाहती हूं आपका ब्लॉग खुलता ही नहीं ,इसलिए नई रचना की लिंक के माध्यम से ही यहां पर आ पाती हूँ ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद आपका
      मुझे भी उतना पता नहीं है मेरे साथ भी ऐसी ही दिक्कत होती है
      फिर भी आप हर रचना को पड़कर अपनी राय देती है आभार आपका

      हटाएं
  3. बहुत सामवेदनशील रचना ... जन्म से कोई ऐसा नहि होता पर परिस्थिति क्या से क्या कर देती है ... वैश्या के मन में भी कोमल भाव तो रहते ही हैं ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी सही कहा आपने परिस्थितियों के वंश में हो जाता है इन्सान कभी कभी
      धन्यवाद सर

      हटाएं
  4. उफ़ बेहद संवेदनशील रचना

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्वाघत आप का मेरे ब्लोग पर
      धन्यवाद

      हटाएं
  5. परिस्थिति क्या क्या नहीं करवाती है। बेहद भावपूर्ण रचना।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जनता और सत्ता

१) सिहासनों पर नहीं पड़ती हैं कभी कोई सिलवटें  जबकि झोपड़ियों के भीतर जन्म लेती हैं बेहिसाब   चिंता की रेखाएं  सड़कों पर चलते  माथे की लकीरों ने  क्या कभी की होगी कोशिश होगी  सिलवटों के न उभरने के गणित को  बिगाड़ने की।  २) सत्ता का ताज भले ही सर बदलता रहा राजाओं का फरेबी मन कभी न बदला चाहे वो सत्ता का गीत बजा रहा  या फिर बिन सत्ता पी रहा हाला ३) जिस कटोरे में हम अश्रु बहाते हैं  उसी कटोरे को लेकर हर बार हमारे अंगूठे का अधिकार मांगते हैं आजादी से लेकर अब तक  जो भी सत्ता की कुर्सी पर झूला है हमारे सांसों के साथ  वो मनमर्जी से हर बार खेला है सरिता सैल

जिस दिन

जिस दिन समाज का  छोटा तबका  बंदूक की गोलियों से  और तलवार की धार से  डरना बंद कर देगा । उस दिन समझ लेना  बारूद के कारखानों में  धान उग आएगा बलिया हवा संग चैत  गायेगी । बच्चों के हाथों से  आसमान में उछली गेंद पर  लड़ाकू विमान की  ध्वनियां नहीं टकराऐगी । जिस दिन समाज का  छोटा तबका बंदूक  और तलवार की भाषा को  अघोषित करार देगा । उस दिन एक नई भाषा  का जन्म होगा  जिसकी वर्णमाला से  शांति और अहिंसा के नारों का निर्माण होगा ।

क्षणिकाएं

1 मैं उम्र के उस पड़ाव पर तुमसे भेंट करना चाहती हूं जब देह छोड़ चुकी होगी देह के साथ खुलकर तृप्त होने की इच्छा और हम दोनों के ह्रदय में केवल बची होगी निस्वार्थ प्रेम की भावना क्या ऐसी भेंट का  इंतजार तुम भी करोगे 2 पत्तियों पर कुछ कविताएं  लिख कर सूर्य के हाथों  लोकार्पण कर आयी हूं  अब दुःख नहीं है मुझे  अपने शब्दों को  पाती का रुप  न देने का  ना ही भय है मुझे  अब मेरी किताब के नीचे  एक वृक्ष के दब कर मरने का 3 आंगन की तुलसी पूरा दिन तुम्हारी प्रतिक्षा में कांट देती है पर तुम्ह कभी उसके लिए नहीं लौटे 4 कितना कुछ लिखा मैंने संघर्ष की कलम से समाज की पीठ पर कागज की देह पर उकेरकर किताबों की बाहों में  उन पलों को मैं समर्पित कर सकूं इतने भी  सकुन के क्षण  जिये नहीं मैंने 5 मेरी नींद ने करवट पर सपनों में दखलअंदाजी  करने का इल्जाम लगाया है