सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

अंतिम रचना

हर रात में लिखती हूं  तुम्हारे पीठ पर मेरे एकांकी जीवन की व्यथा  सदियाँ गुजर गई  और गुजरती रहेंगे  उस रात में तुम्हारा जाना  तुम्हें बुद्ध बना गया  और आज तुम्हारे  पीठ पर मैं छोड़ रही हूं  एक प्रश्न मेरा जाना  बुध्द या युद्ध बन जाता  या फिर  तुम किसी अश्लील भाषा की तरह  अपने सभ्य भाषा के  संसार से मुझे त्यागकर  महान बन जाते शायद जैसे मैं रोज आज की  तारीख में त्यागी जा रही हूँ तुम हर उस जगह पर लौट आवोगे जहाँ तुम्हारी गाधाऐ गायी जायेगी पर तुम कभी नहीं लौटोगे मेरे  विरह से तपती दुनिया में (अंतिम कविता इस सफर की) 
हाल की पोस्ट

नदी की देह पर उगी पपड़ीयां

सूखी नदी के देह पर  उगी पपड़ीयां बयां करती हैं  नदी के मिटने का इतिहास  टूटे नावों के और  अपाहिज पतवार के  अवशेषों की कहानियां  दर्ज नहीं होती है कभी ना ही प्यासे जानवरों की  प्यास कोई विषय बन जाता है  पर फरमान काटे जाते हैं  उन तमाम मौसमों के नाम  जिनके हाथों में हथकड़ी  असंभव है  और कलम की नोक से  अदालत में बचाये जाते हैं रेत माफियाओं की गर्दनें विकास के नाम पर जहर उगलते  कारखाने के मालिकों के बटवे पर नदी की सुखी पपडियो में दर्ज होते हैं उसके मिटने का एतिहास और सभ्यता से असभ्यता की ओर बडती अंधी पीडी का वर्तमान

हो जाओ तुम मुक्त

उस व्यवस्था से तुम  हो जाओ मुक्त  जो छाँव देने के भरोसे के बदले  छीन लेती है तुम्हारी  स्वनिर्मित आशियाने की छत उस व्यवस्था से तुम हो जाओ मुक्त  जो तुम्हारी हथेली पर खींच देती है एक रेखा  भाग्य के सिदुंर की  और छीन लेती है  तुम्हारी अँगुलियों की ताकत  उस व्यवस्था से तुम हो जाओ मुक्त  जो तुम्हारे कंधों पर रख देती है हाथ जीवन भर साथ निभाने के  आश्वासन के साथ  और तोड़ देती है एक मजबूत हड्डी  तुम्हारे बाजुओं की उस व्यवस्था से तुम हो जाओ मुक्त  जो तुम्हारे ह्रदय के गर्भ गृह में हो जाती है प्रेम से दाखिल  और तुम बसा लेती हो एकनिष्ठ एक ईश्वर की प्रतिमा  जिस दिन  तुम हठ करती हो एक कतरा उजाले की वो छीन लेती है  तुम्हारी आँखों की पुतलियाँ। ।।।।।

जायज़ प्रश्न

तुम विकसित न करना  खामोश रहने की कला  गूंगे ध्वनियों के गमले  हर चौराहे पर हर हुकुमशाहों के  दरबार  के बाहर  दिन-ब-दिन इन गमलों की  तादाद बढ़ रही है धरती पर यह समय है गुलगुली जमीन पर  न्याय के प्रश्नों के बीज बोने का  जब भविष्य के कान तैयार हो रहे हैं  तब हम जायज़ प्रश्नों की  हत्या में क्यों लगे हैं  वर्तमान के कंधों पर  हम  भविष्य की झोली  टंगा रहे हैं तदउपरात हम बहुत पीछे रहेंगे  आगे जाएगे केवल  आज के दहलीज से उठाये कल के सवाल अगर उसमें जायज प्रश्न नहीं रहेंगे  तो तर्क नहीं होगा  और बिना तर्क के जिजीविषा   तो जरूरत है हमें आज  गमलों से गूंगी ध्वनियों को  बाहर फेंक देने की और उसमें रोपने होंगे सही प्रश्न  लगानी होगी हुकुमशाहो के  दरबार के बाहर एक वाजिब हाजिरी  जिससे उछलें सवाल और  पहुंच जाए भविष्य के कानों में  पक्के सफर के लिए

क्षणिकाएँ

१. तुम्हारे पास मेरा ना लौटना  मेरा कहीं और जाने का संकेत नहीं है  बस रिश्तो में भरोसे का  कम होने का आघात हैं २. गति और ठहराव के  बीच बहती हूँ मैं नदी नहीं हुं मैं पर नदी की तरह ही रिश्तों में खुद को  समर्पित करती हूँ मैं ३. जब मैं तुम्हें खोने के डर से मंदिरों की सिढीया चढ़ रही थी ठीक उसी समय  तुम मुझे दूर करने के लिए जख्म पर जख्म देकर तमाम हदों को पार  कर रहे थे

रिश्ते

जिसने गर्भनाल से  जुड़े रिश्ते की क्रूरता  सहन की हो वह अब  अन्य रिश्तो की बेईमानी  और मतलबी होने का अफसोस नहीं मनाती है देह में बहता रक्त भी  जिसे बोझ सा लगने लगता है  वो मृत्यु का डर नहीं करता है  देह पर लगे फल को ही  एक बेल का असमानता की  दृष्टि से देखना जिस दिन उसने देखा उस दिन से ममता की परिभाषा ही उसने बदल कर रख दी है

महानगर को गाँव कहाँ याद आता है

अपने आलीशान महलों से उठकर  कभी महानगर भी गांव जाता राह तकते आंगन में  कुछ पल सुस्ताता जर्जर होते चौक पर लगी किसी नेता की  प्रतिमा के सामने सेल्फी खीचता किताबों की दुकान में भी काश अपनी हाज़िर दे आता जहाँ बोया गया था उसके मन में एक बीज कविताओं के सृजन का पर आलिशान महलों से उठकर अब कहाँ  महानगर गाँव जाता है आंगन के नाम पर उसके पास शानदार बालकनी जो है महानगरों के बढियां रेस्टोरेंट के सामने गाँव के स्टेशन पर बैठे चायवाले की चाय का स्वाद फिका जो पड़ गया है अब  फैशन के नाम पर अपने दोस्तों के पास  महानगर बस एक संदेशा भेज देता है