सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नौ दिन नौ कविताएं


दिन 1
समाज ने उसी  सीप में बसा 
अंधेरा ही बहाल करना चाहा 
पर वो हर बार मोती बन उभरती गई

उसके लिए तुम सब ने 
बिना जल के कुएं की खुदाई की 
पर वो वहां से भी सरिता बन बही

लोहे का घुंघट उसके माथे रख छोड़ा 
उसी लोहे को पिघला कर 
उसने भविष्य का रास्ता बना दिया 

उसकी बेड़ियों को तो खोल दिया
 उसके पंखों को बांध दिया
पर उसके मन की गति तुम जान न सके

हर युग में तुम ग़लत हिसाब कर गये
ये वही रमणि है
जो अपने सांस के भीतर
और एक सांस लेकर
चलने का सामर्थ्य रखती है

टिप्पणियाँ

  1. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शुक्रवार (08 -10-2021 ) को 'धान्य से भरपूर, खेतों में झुकी हैं डालियाँ' (चर्चा अंक 4211) पर भी होगी। आप भी सादर आमंत्रित है। रात्रि 12:01 AM के बाद प्रस्तुति ब्लॉग 'चर्चामंच' पर उपलब्ध होगी।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ईश्वर

ईश्वर  इन दिनों बीहड़ में बैठकर पाषाण पर लिख रहा है दस्तावेज सृष्टि के पुनर्निर्माण का उसके पहले वो छूना चाहता है जंगली जानवर के हृदय में स्थित प्रेम जिसका वह भूखा है सदियों से उसने खाली कर दी तमाम बैठकें जहां पाप के कीचड़ में पुण्यबीज बोने की इच्छाएँ जमा हो गई हैं  दिमागों को अंतिम आशीर्वाद देकर वो वहाँ से उठ चला है नदियाँ बीहड़ की तरफ मुड़ी हैं सुना है ईश्वर के चरणों के स्पर्श से बंधनमुक्त सांसें भर रही हैं  वनराई के सबसे ऊँचे तरू से बेल खींचकर ईश्वर ने पुरूषों के कदमों का माप लिया है कछुए के पीठ की कठोरता  उसने अपने कलम में भरकर  गढ़ ली है स्त्री की प्रतिमा।  तमस गुणों को नवजात के मुट्ठी में बंद करके ईश्वर ने बांध दिया है स्वार्थी मनुज को  दंन्तुरी मुस्कान में ।

जनता और सत्ता

१) सिहासनों पर नहीं पड़ती हैं कभी कोई सिलवटें  जबकि झोपड़ियों के भीतर जन्म लेती हैं बेहिसाब   चिंता की रेखाएं  सड़कों पर चलते  माथे की लकीरों ने  क्या कभी की होगी कोशिश होगी  सिलवटों के न उभरने के गणित को  बिगाड़ने की।  २) सत्ता का ताज भले ही सर बदलता रहा राजाओं का फरेबी मन कभी न बदला चाहे वो सत्ता का गीत बजा रहा  या फिर बिन सत्ता पी रहा हाला ३) जिस कटोरे में हम अश्रु बहाते हैं  उसी कटोरे को लेकर हर बार हमारे अंगूठे का अधिकार मांगते हैं आजादी से लेकर अब तक  जो भी सत्ता की कुर्सी पर झूला है हमारे सांसों के साथ  वो मनमर्जी से हर बार खेला है सरिता सैल

क्षणिकाएं

१) अनगिनत वृक्ष दुनिया भर की अलमारियों में बैठे हैं मौन और दीमकें जता रही हैं उन पर अपना हक। २) संमदर में रोती हुई मछलीयां  सीप में रख देती हैं  अपने आंसूओं को  जो मोती बन चमकते हैं  धरती के गालों पर ३) हर पार्वती के हिस्से  नहीं होते शिव  फिर भी वो अर्द्धनारीश्वर के रूप में विचरती रहती है इस धरा पर ! ४) मैं तुम्हारे आंगन कि कृष्ण तुलसी बनकर  तुम्हारे ललाट पर स्थित  समस्त कठिन रेखाएं खींच कर  भस्म कर अपने देह के अंदर धर लूंगी ५) हम दोनों के प्रेम में स्थित अधूरापन तुम्हारे लौटने की परिभाषा है