सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

औरतें पुल बनना नहीं चाहती है

औरतें पुल बनना नहीं चाहती हैं
इन समाज के ठेकेदारों ने
अपने निकम्मे झोली में से
उन्हें वही शिक्षा दी सदियों से

उसके कंधें  छीलते रहे
पर तुम अपने अंहकार के
चाबुक से उसे ढकते रहे
उसका एक इंची भी सरकन
तुम्हारे हत्यार बर्दाश्त न कर सके

अपने जीव्हा पर अनंत काल से पड़े
लोहे के ताले को अब वो तोड़ना चाहती हैं
सड़कों को भी अब आदत डालनी पड़ेगी
औरतों के मजबूत कदमों की
औरतें पुल बनना नहीं चाहती हैं

टिप्पणियाँ

  1. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शनिवार 18 सितम्बर 2021 शाम 3.00 बजे साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर। औरते पूल नही बनना चाहती है।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ईश्वर

ईश्वर  इन दिनों बीहड़ में बैठकर पाषाण पर लिख रहा है दस्तावेज सृष्टि के पुनर्निर्माण का उसके पहले वो छूना चाहता है जंगली जानवर के हृदय में स्थित प्रेम जिसका वह भूखा है सदियों से उसने खाली कर दी तमाम बैठकें जहां पाप के कीचड़ में पुण्यबीज बोने की इच्छाएँ जमा हो गई हैं  दिमागों को अंतिम आशीर्वाद देकर वो वहाँ से उठ चला है नदियाँ बीहड़ की तरफ मुड़ी हैं सुना है ईश्वर के चरणों के स्पर्श से बंधनमुक्त सांसें भर रही हैं  वनराई के सबसे ऊँचे तरू से बेल खींचकर ईश्वर ने पुरूषों के कदमों का माप लिया है कछुए के पीठ की कठोरता  उसने अपने कलम में भरकर  गढ़ ली है स्त्री की प्रतिमा।  तमस गुणों को नवजात के मुट्ठी में बंद करके ईश्वर ने बांध दिया है स्वार्थी मनुज को  दंन्तुरी मुस्कान में ।

जनता और सत्ता

१) सिहासनों पर नहीं पड़ती हैं कभी कोई सिलवटें  जबकि झोपड़ियों के भीतर जन्म लेती हैं बेहिसाब   चिंता की रेखाएं  सड़कों पर चलते  माथे की लकीरों ने  क्या कभी की होगी कोशिश होगी  सिलवटों के न उभरने के गणित को  बिगाड़ने की।  २) सत्ता का ताज भले ही सर बदलता रहा राजाओं का फरेबी मन कभी न बदला चाहे वो सत्ता का गीत बजा रहा  या फिर बिन सत्ता पी रहा हाला ३) जिस कटोरे में हम अश्रु बहाते हैं  उसी कटोरे को लेकर हर बार हमारे अंगूठे का अधिकार मांगते हैं आजादी से लेकर अब तक  जो भी सत्ता की कुर्सी पर झूला है हमारे सांसों के साथ  वो मनमर्जी से हर बार खेला है सरिता सैल

क्षणिकाएं

१) अनगिनत वृक्ष दुनिया भर की अलमारियों में बैठे हैं मौन और दीमकें जता रही हैं उन पर अपना हक। २) संमदर में रोती हुई मछलीयां  सीप में रख देती हैं  अपने आंसूओं को  जो मोती बन चमकते हैं  धरती के गालों पर ३) हर पार्वती के हिस्से  नहीं होते शिव  फिर भी वो अर्द्धनारीश्वर के रूप में विचरती रहती है इस धरा पर ! ४) मैं तुम्हारे आंगन कि कृष्ण तुलसी बनकर  तुम्हारे ललाट पर स्थित  समस्त कठिन रेखाएं खींच कर  भस्म कर अपने देह के अंदर धर लूंगी ५) हम दोनों के प्रेम में स्थित अधूरापन तुम्हारे लौटने की परिभाषा है