सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं


 *तलाक मांगती औरतें*

तलाक माँगती औरतें अच्छी नहीं लगती है
वह रिश्तों के उस बहीखाते में बोझ सी लगने लगती है
जिस पर पिता ने लिखा था उसके शादी का खर्चा
उस माँ की नजरों में भी ख़टकने लगती है
जिसमें अब पल रहा होता है
उसकी छोटी बहन के शादी का ख्वाब....
तलाक माँगती औरतें बिल्कुल अच्छी नहीं लगती है
गाँव का कुआँ हररोज सुनता है उसके बदचलन होने की अफवाह
जब मायके आती है
वातावरण में एक भारीपन साथ लेकर आती है
जैसे अभी-अभी घर की खिलखिलाहट को
किसी ने बुहारकर  कोने में रख दिया हो
तलाक माँगती औरतें किसी घटना की तरह चर्चा का विषय बन जाती है
उछाली जाती है वह कई-कई दिनों तक
तलाक मांगती औरतें बिल्कुल अच्छी नहीं लगती है
दो घरों के बीच पिसती रहती है
मायके  में कंकड़ की तरह बिनी जाती है
और एक दिन,
अपना बोरिया-बिस्तर बांध
किसी अनजान शहर में जा बैठती है
और जोड़ देती है अपने टुटे पंखों को
दरवाजे पर चढ़ा देती है अपने नाम का तख्ता
आग में डाल देती है उन तानों को
जो उसे कभी दो वक्त की रोटी के साथ मिला करते थे
चढ़ा देती है चूल्हे पर नमक अपने पसीने का
और ये औरतें इस तलाक शब्द को
खुद की तलाश में मुक्कमल कर देती है......

टिप्पणियाँ

  1. बहुत अच्छी कविता ।।आपकी निगाह संदर्भ को सूक्ष्म नजरिये से देखती है।भाषा बांधती है।शुभकामनायें ।

    जवाब देंहटाएं
  2. कविता बहुत यथार्थ को उकेर रही है ।

    जवाब देंहटाएं
  3. नारी की स्थिति का मार्मिक चित्रण ।

    जवाब देंहटाएं
  4. सच कहा आपकी कविता से अपने

    जवाब देंहटाएं
  5. सही कहा...तलाक शब्द समाज का कलंक है, जिसे स्त्री को ही ढोना होता है। बहुत बढ़िया।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही सुंदर ,तलाक एक बदनामी एक तमाचा है औरत के लिए ,तलाक समाज में जीना मुश्किल कर देती है औरत का ,यू ही औरतें सबकुछ बर्दाश्त नही कर लेती अपनी शादी को बचाने के लिए ,
    असलियत बयां करती हुई ,नमस्कार

    जवाब देंहटाएं
  7. यथार्थ की परत डर परत खोलती सजीव रचना -- बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

क्षणिकाएं

1 मैं उम्र के उस पड़ाव पर तुमसे भेंट करना चाहती हूं जब देह छोड़ चुकी होगी देह के साथ खुलकर तृप्त होने की इच्छा और हम दोनों के ह्रदय में केवल बची होगी निस्वार्थ प्रेम की भावना क्या ऐसी भेंट का  इंतजार तुम भी करोगे 2 पत्तियों पर कुछ कविताएं  लिख कर सूर्य के हाथों  लोकार्पण कर आयी हूं  अब दुःख नहीं है मुझे  अपने शब्दों को  पाती का रुप  न देने का  ना ही भय है मुझे  अब मेरी किताब के नीचे  एक वृक्ष के दब कर मरने का 3 आंगन की तुलसी पूरा दिन तुम्हारी प्रतिक्षा में कांट देती है पर तुम्ह कभी उसके लिए नहीं लौटे 4 कितना कुछ लिखा मैंने संघर्ष की कलम से समाज की पीठ पर कागज की देह पर उकेरकर किताबों की बाहों में  उन पलों को मैं समर्पित कर सकूं इतने भी  सकुन के क्षण  जिये नहीं मैंने 5 मेरी नींद ने करवट पर सपनों में दखलअंदाजी  करने का इल्जाम लगाया है

जिस दिन

जिस दिन समाज का  छोटा तबका  बंदूक की गोलियों से  और तलवार की धार से  डरना बंद कर देगा । उस दिन समझ लेना  बारूद के कारखानों में  धान उग आएगा बलिया हवा संग चैत  गायेगी । बच्चों के हाथों से  आसमान में उछली गेंद पर  लड़ाकू विमान की  ध्वनियां नहीं टकराऐगी । जिस दिन समाज का  छोटा तबका बंदूक  और तलवार की भाषा को  अघोषित करार देगा । उस दिन एक नई भाषा  का जन्म होगा  जिसकी वर्णमाला से  शांति और अहिंसा के नारों का निर्माण होगा ।

जब वह औरत मरी थी

जब वह औरत मरी तो रोने वाले ना के बराबर थे  जो थे वे बहुत दूर थे  खामोशी से श्मशान पर  आग जली और  रात की नीरवता में  अंधियारे से बतयाती बुझ गई  कमरे में झांकने से मिल गई थी  कुछ सुखी कलियां  जो फूल होने से बचाई गई थी  जैसे बसंत को रोक रही थी वो  कुछ डायरियों के पन्नों पर  नदी सूखी गई थी  तो कहीं पर यातनाओं का वह पहाड़ था जहां उसके समस्त जीवन के पीडा़वों के वो पत्थर थे जिसे ढोते ढोते उसकी पीठ रक्त उकेर गई थी कुछ पुराने खत जिस पर  नमक जम गया था  डाकिया अब राह भूल गया था मरने के बाद उस औरत ने  बहुत कुछ पीछे छोड़ा था  पर उसे देखने के लिए  जिन नजरों की  आज जरूरत थी  उसी ने नजरें फेर ली थी  इसीलिए तो उस औरत ने  आंखें समय के पहले ही मुद ली थी ।