सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्रेम बचा रहता है

एक समय के बाद 
सब कुछ खत्म करने की 
जिद्द करता है मन 
चाहे वो रिश्ता कितना भी 
खास क्यों ना हो 

पर लाख कोशिशों के 
बावजूद बचा रहता है 
उस प्रथम मुलाकात में 
हथेलियों के बेजान रेखाओं
के बीच बचा तुम्हारा स्पर्श

मानों अंतिम रोटी पकने के बाद 
बची रहती हैं चुल्हे के देह पर 
उस रोटी की महक 

जैसे समंदर में जाल में फंसी मछली का 
अंतिम आंसू बहता रहता है 
कहीं-कहीं दिनों तक समंदर के सिने पर

जैसे बीज प्रस्तर पर गिरने के बाद भी 
बची रहती हैं अंकुरित होने की संभावनाएँ

पर स्विकार और अस्वीकार के बीच 
बार-बार गुम होती तुम्हारी इस भाषा से
मेरे मन के माथे पर सिलवटें पड़ गई है 
और यह लौटना चाहता है अपने एकांत में 

पर तुम बचे रहोगे मेरे बालकनी में स्थित 
चांद और तुलसी की दूरियों के बीच 

तुम बचे रहोगे मेरे शहर के ग्रंथालय के
उन अलमारियों में जहांँ से पढ़ी थी 
मैंने कविताएंँ विस्थापन के दर्द की 

रोज सुबह  मेरी अलमारी में 
साड़ी की जगह खाली देख 
मुझे याद आएगा लाल रंग 
हर किसी के हिस्से नहीं आता है कभी..   

टिप्पणियाँ

  1. रोज सुबह मेरी अलमारी में
    साड़ी की जगह खाली देख
    मुझे याद आएगा लाल रंग
    हर किसी के हिस्से नहीं आता है कभी..

    अप्रितम और पावन प्रेम को समर्पित कविता की प्रशंसा के लिए शब्द बोने पड़ते हैं
    वाह अंतस की घराई को नापती पंक्तितियों को सल्यूट

    जवाब देंहटाएं
  2. एक समय के बाद...
    कुछ भी हो सकता है
    गहन चिंतन
    सादर

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपनो का मर जाना

सपनों का मर जाना वाकई बहुत खतरनाक होता है  वह भी ऐसे समय में  जब बडे़ मुश्किल से  तितली संभाल रही हैं  अपने रंगों का साम्राज्य निर्माण हो रहा है मुश्किल  से गर्भ में शिशु  और जद्दोजहद करके  नदी बना रही हैं  अपना रास्ता  बहुत कठिनाइयों से  वृक्ष बचा रहे हैं अपनी उम्र कुल्हाड़ियों के मालिकों से  वाकई समय बहुत खतरनाक हैं  जब केंचुए के पीठ पर  दांत उग रहे हैं  और ऐसे समय में  सपनों का मर जाना  समस्त सृष्टि का कालांतर में  धीरे-धीरे अपाहिज हो जाना है

धर्म बनिए का तराजू बन गया है

सबके पास धर्म के नाम पर  हाथों में उस बनिये का तराजू हैं  जो अपने अनुसार तौलता  है  धर्म के असली दस्तावेज तो  उसी दिन अपनी जगह से खिसक गए थे जिस दिन स्वार्थ को अपना धर्म  बेईमानी को अपना कर्म  चालाकी को अपना कौशल समझकर इंसानियत के खाते में दर्ज किया था

एक थी कावेरी

               पागल से अस्त-व्यस्त बालों वाली कावेरी बचपन से जवानी तक और उसके आगे भी बोझ होने का बोझ उठाते रही । निसंतान चाची के पास छोड़ दिया तो बचपन उस धरती पर  गुजरा कावेरी का  जिस धरती पर कभी बीज अंकुरित नहीं हुआ था । चाची से तो ममता नहीं मिली पर हां जीवन का गणित जरूर सीख लिया । जिस दिन डांट पड़ती उस दिन उसके बाल नहीं बनते और नन्हे हाथों से कावेरी अपने बाल सवारती  स्कुल पहुंचने में देरी होती अगर गणित के अध्यापक कक्षा में होते तो खूब धुलाई होती । वैसे भी कावेरी को गणित और गणित का मास्टर दोनों यमराज से लगते ।  जबरदस्ती पहले बैंच पर बिठाया जाता और जिस दिन बोर्ड के तरफ उसकी सवारी गणित के अध्यापक  कक्षा में निकालते उस दिन बच्चे खूब हंसते और शर्म से गडी गडी कावेरी बगीजे के आम के नीचे बैठकर खूब रोती वो सीखना चाहती थी पर सिखाएगा कौन यह सवाल था ।              बस्ती की लड़कियां भी कावेरी से चिकनी चुपड़ी बातें करके अपना काम निकलवा लेती कभी कावेरी से कलसी में पानी भर कर लिया जाता तो कभी आंगन में गोबर लिपकर लिया जाता बस कावेरी को किसी ना किसी का साथ चाहिए होता खूब हुड़दंग मचाती बस्ती में लड़क