सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्षणिकाएँ

तुफानों में रुकने से अधिक
रास्ता साफ करना
हमने मुनासिफ समझा


नीव का साथ 
छोडने पर 
केवल मकान  
खड़ा रहता है 
घर नहीं

भीगी हथेलियां 
जब साथ के लिए 
या फिर आशिर्वाद के लिए 
उठती है तो 
वो सबसे विश्वसनीय होती है
उन्होंने सफर में खोये होते हैं 
अनेक भरोसे के जहाज़


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपनो का मर जाना

सपनों का मर जाना वाकई बहुत खतरनाक होता है  वह भी ऐसे समय में  जब बडे़ मुश्किल से  तितली संभाल रही हैं  अपने रंगों का साम्राज्य निर्माण हो रहा है मुश्किल  से गर्भ में शिशु  और जद्दोजहद करके  नदी बना रही हैं  अपना रास्ता  बहुत कठिनाइयों से  वृक्ष बचा रहे हैं अपनी उम्र कुल्हाड़ियों के मालिकों से  वाकई समय बहुत खतरनाक हैं  जब केंचुए के पीठ पर  दांत उग रहे हैं  और ऐसे समय में  सपनों का मर जाना  समस्त सृष्टि का कालांतर में  धीरे-धीरे अपाहिज हो जाना है

युद्ध

युद्ध के ऐलान पर  किया जा रहा था  शहरों को खाली  लादा जा रहा था बारूद  तब एक औरत  दाल चावल और आटे को  नमक के बिना* बोरियों में बाँध रही थी  उसे मालूम था  आने वाले दिनों में  बहता हुआ आएगा नमक  और गिर जाएगा  खाली तश्तरी में   वह नहीं भूली अपने बेटे के पीठ पर  सभ्यता की राह दिखाने वाली बक्से को लादना  पर उसने इतिहास की  किताब निकाल रख दी अपने घर के खिड़की पर  एक बोतल पानी के साथ क्योंकि, यह वक्त पानी के सूख जाने का है..!

धर्म बनिए का तराजू बन गया है

सबके पास धर्म के नाम पर  हाथों में उस बनिये का तराजू हैं  जो अपने अनुसार तौलता  है  धर्म के असली दस्तावेज तो  उसी दिन अपनी जगह से खिसक गए थे जिस दिन स्वार्थ को अपना धर्म  बेईमानी को अपना कर्म  चालाकी को अपना कौशल समझकर इंसानियत के खाते में दर्ज किया था