सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

चुनाव का उत्सव



मैंने देखे हैं
अपने गाँव में चुनाव के कई उत्सव
कभी लोकसभा के तो कभी विधान सभा के
तो कभी पंचायत के
कहाँ होता था कोई फर्क
जनता के लिये
याद है मुझे
मनभाता था
गाड़ियों का 
गाँव की कच्ची सड़कों पर
धूल उड़ाना,
बच्चो का गाड़ियों के पीछे भागना
गाड़ी के पहियों के निशान का पीछा करना ।

और आज याद आ रहा है
उन गाड़ियों का मुड़कर नहीं लौटना
स्रियां खोलती थी अपनी संदूक 
निकालती थी मँहगी साड़ियां 
जो नहीं पहनी वे कई सालों से
पांच-साल उत्सव पर पहनती थी वे
सालों से तह रखी साड़ियां
संविधान के पन्नों की गंध आती थी
इन साड़ियाें से
अब भी ताजी है
संदूक के पल्लों की चे-चे और
सीलन की गंध
खेत खलिहान में
रुक जाते थे हाथ 
बैलों के गले की घंटियां 
लौट आती थी सुबह सवेरे ही
सैकड़ो कदम उठ पड़ते थे
मतदान केंद्र की तरफ
कंधे पर डाले नई धुली कमीज
अधिकार के प्रदर्शन के लिये ।

किन्तु कोरे रह गये
चुनाव में किये गए वादे
किसान के कंधे पर रख
कमीज की भांति 
जिसे उसने कभी इस्तेमाल ही नहीं किया

समय बदला 
अधिकार के मायने बदले
जाति-धर्म ने लिया
संविधान का स्थान
भोली जनता फिर
गाड़ियों में भर-भरकर
लिवा जाने लगी
उन्हीं बड़ी -बड़ी गाड़ियों में 
धूल उड़ाती
फिर आते वक्त वही धूल 
वापिस उड़ जाती थी
जनता की आँखों में

मेरे गांव की जनता
एक वोट को अधिकार
समझती
वह अधिकार जो
जनता का मानो
प्रमाण-पत्र हो सरकार को
अपने अंगूठे पर लगी
काली स्याही को वे
निहारते गर्व से
उन्हें अपनी गिनती का 
होता आभास बस एक दिन
भोली जनता को

क्या पता ये तो
अंधेरा थमा दिया है
हाथों में उनके
काश कोई सरकार
चुनाव की स्याही से भरती कलम
देती  शिक्षा भगाती अँधेरा
धूल उड़ाती चुनावी गाड़ियां 
लौटती लेकर
रोजगार और स्वावलंबन

टिप्पणियाँ

  1. सामयिक चिंतानात्मक रचना

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर और सार्थक रचना है वर्तमान परिवेश में

    जवाब देंहटाएं
  3. चुनाव पर लिखी बहुत अच्छी और प्रभावी कविता

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

क्षणिकाएं

1 मैं उम्र के उस पड़ाव पर तुमसे भेंट करना चाहती हूं जब देह छोड़ चुकी होगी देह के साथ खुलकर तृप्त होने की इच्छा और हम दोनों के ह्रदय में केवल बची होगी निस्वार्थ प्रेम की भावना क्या ऐसी भेंट का  इंतजार तुम भी करोगे 2 पत्तियों पर कुछ कविताएं  लिख कर सूर्य के हाथों  लोकार्पण कर आयी हूं  अब दुःख नहीं है मुझे  अपने शब्दों को  पाती का रुप  न देने का  ना ही भय है मुझे  अब मेरी किताब के नीचे  एक वृक्ष के दब कर मरने का 3 आंगन की तुलसी पूरा दिन तुम्हारी प्रतिक्षा में कांट देती है पर तुम्ह कभी उसके लिए नहीं लौटे 4 कितना कुछ लिखा मैंने संघर्ष की कलम से समाज की पीठ पर कागज की देह पर उकेरकर किताबों की बाहों में  उन पलों को मैं समर्पित कर सकूं इतने भी  सकुन के क्षण  जिये नहीं मैंने 5 मेरी नींद ने करवट पर सपनों में दखलअंदाजी  करने का इल्जाम लगाया है

जिस दिन

जिस दिन समाज का  छोटा तबका  बंदूक की गोलियों से  और तलवार की धार से  डरना बंद कर देगा । उस दिन समझ लेना  बारूद के कारखानों में  धान उग आएगा बलिया हवा संग चैत  गायेगी । बच्चों के हाथों से  आसमान में उछली गेंद पर  लड़ाकू विमान की  ध्वनियां नहीं टकराऐगी । जिस दिन समाज का  छोटा तबका बंदूक  और तलवार की भाषा को  अघोषित करार देगा । उस दिन एक नई भाषा  का जन्म होगा  जिसकी वर्णमाला से  शांति और अहिंसा के नारों का निर्माण होगा ।

जब वह औरत मरी थी

जब वह औरत मरी तो रोने वाले ना के बराबर थे  जो थे वे बहुत दूर थे  खामोशी से श्मशान पर  आग जली और  रात की नीरवता में  अंधियारे से बतयाती बुझ गई  कमरे में झांकने से मिल गई थी  कुछ सुखी कलियां  जो फूल होने से बचाई गई थी  जैसे बसंत को रोक रही थी वो  कुछ डायरियों के पन्नों पर  नदी सूखी गई थी  तो कहीं पर यातनाओं का वह पहाड़ था जहां उसके समस्त जीवन के पीडा़वों के वो पत्थर थे जिसे ढोते ढोते उसकी पीठ रक्त उकेर गई थी कुछ पुराने खत जिस पर  नमक जम गया था  डाकिया अब राह भूल गया था मरने के बाद उस औरत ने  बहुत कुछ पीछे छोड़ा था  पर उसे देखने के लिए  जिन नजरों की  आज जरूरत थी  उसी ने नजरें फेर ली थी  इसीलिए तो उस औरत ने  आंखें समय के पहले ही मुद ली थी ।