सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मछली बाजार की औरतें

मछली बाजार की औरतें 

जब भी मैं 
जाती हूँ मछली बाजार 
एक आदत सी बनी है
उन औरतों को निहारती हूँ 
देखती हूँ मछली बेचने का कौशल 
पल में सोचती हूँ 
चंद पैसों के लिए 
सुबह से शाम लगाती  हांक ये
बैठती हैं ये  बाजार में 
मैं सोचती हूँ 
अगर ये न होती 
इनके मर्दो की सारी मेहनत 
सड़ जाती गल जाती 
जो अभी है समंदर के लहरों से लड़ता हुआ 
लाने को नाव भर  मछलियां 

एक मछली वाली है इन्हीं में 
सूनी है जिसकी कलाई
मांग भी सूना है 
गांव की तिरस्कृत पगडंडी की तरह 
चेहरा थोड़ा काला
कुरूप सा लेकिन मेहनत के  रंग से  दीप्त 
उसके  श्रम को सलाम है मेरा
जिसका  पुरूष समंदर से लड़ते हुए 
लौटा नहीं कभी लेकर मछलियां 

मेरे सामने से 
गुजरते हैं हजारों चेहरे 
नित्य केशों में सफेद फूल बांधते 
नथनी , बिंदी  और पायल से सजी
  और  स्निग्धता से  भरी
ये मछली  बेचती  औरतें 
हर रात अपना श्रंगार 
समंदर के लहरों के भरोसे ही तो करती होंगी 
जिन पर सवार हो उनके पुरूष 
समंदर की गहराई में ढूंढते हैं भूख का हल
मछली के रूप में 

भरी टोकरी मछली बार बार उदास करती है उसे 
और कमर पर खुँसी  पैसे के बटुए को
देखती हैं  कनखी से  समंदर से टोकरी 
और फिर  थैली का सफर बडा़ मुश्किल होता है 
इनमें मछली बाजार की औरतों का। 

टिप्पणियाँ

  1. एक दृश्य खैंचा है इन औरतों का ... जहाँ मैग्नेट और समवेदना दोनों नज़र आती हैं ...

    जवाब देंहटाएं
  2. आपने पूरी तस्वीर उतार दी अपनी रचना में ।बहुत ख़ूब,,,,,,,,,आदरणीय प्रणाम

    जवाब देंहटाएं
  3. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शनिवार (०१-०८ -२०२०) को 'बड़े काम की खबर'(चर्चा अंक-३७८०) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर खाका खींचा आपने मछुआरनों का। वैसे यह सदा गहनों से लदी होती हैं।बहुत दौलत हैं जिनके पास।

    जवाब देंहटाएं
  5. समाज के कड़वे रूप को प्रदर्शित करती खूबसूरत कविता।

    जवाब देंहटाएं
  6. ये मछली बेचती औरतें
    हर रात अपना श्रंगार
    समंदर के लहरों के भरोसे ही तो करती होंगी
    जिन पर सवार हो उनके पुरूष
    समंदर की गहराई में ढूंढते हैं भूख का हल
    मछली के रूप में ...वाह मछली बाजार की औरतें ....कल्पना की सबसे बड़ी उड़ान भरती कव‍िता सर‍िता जी

    जवाब देंहटाएं
  7. चित्रोपमता भी और वर्णन में सजीवता भी -- बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जनता और सत्ता

१) सिहासनों पर नहीं पड़ती हैं कभी कोई सिलवटें  जबकि झोपड़ियों के भीतर जन्म लेती हैं बेहिसाब   चिंता की रेखाएं  सड़कों पर चलते  माथे की लकीरों ने  क्या कभी की होगी कोशिश होगी  सिलवटों के न उभरने के गणित को  बिगाड़ने की।  २) सत्ता का ताज भले ही सर बदलता रहा राजाओं का फरेबी मन कभी न बदला चाहे वो सत्ता का गीत बजा रहा  या फिर बिन सत्ता पी रहा हाला ३) जिस कटोरे में हम अश्रु बहाते हैं  उसी कटोरे को लेकर हर बार हमारे अंगूठे का अधिकार मांगते हैं आजादी से लेकर अब तक  जो भी सत्ता की कुर्सी पर झूला है हमारे सांसों के साथ  वो मनमर्जी से हर बार खेला है सरिता सैल

जिस दिन

जिस दिन समाज का  छोटा तबका  बंदूक की गोलियों से  और तलवार की धार से  डरना बंद कर देगा । उस दिन समझ लेना  बारूद के कारखानों में  धान उग आएगा बलिया हवा संग चैत  गायेगी । बच्चों के हाथों से  आसमान में उछली गेंद पर  लड़ाकू विमान की  ध्वनियां नहीं टकराऐगी । जिस दिन समाज का  छोटा तबका बंदूक  और तलवार की भाषा को  अघोषित करार देगा । उस दिन एक नई भाषा  का जन्म होगा  जिसकी वर्णमाला से  शांति और अहिंसा के नारों का निर्माण होगा ।

क्षणिकाएं

1 मैं उम्र के उस पड़ाव पर तुमसे भेंट करना चाहती हूं जब देह छोड़ चुकी होगी देह के साथ खुलकर तृप्त होने की इच्छा और हम दोनों के ह्रदय में केवल बची होगी निस्वार्थ प्रेम की भावना क्या ऐसी भेंट का  इंतजार तुम भी करोगे 2 पत्तियों पर कुछ कविताएं  लिख कर सूर्य के हाथों  लोकार्पण कर आयी हूं  अब दुःख नहीं है मुझे  अपने शब्दों को  पाती का रुप  न देने का  ना ही भय है मुझे  अब मेरी किताब के नीचे  एक वृक्ष के दब कर मरने का 3 आंगन की तुलसी पूरा दिन तुम्हारी प्रतिक्षा में कांट देती है पर तुम्ह कभी उसके लिए नहीं लौटे 4 कितना कुछ लिखा मैंने संघर्ष की कलम से समाज की पीठ पर कागज की देह पर उकेरकर किताबों की बाहों में  उन पलों को मैं समर्पित कर सकूं इतने भी  सकुन के क्षण  जिये नहीं मैंने 5 मेरी नींद ने करवट पर सपनों में दखलअंदाजी  करने का इल्जाम लगाया है